प्रादेशिक

होनहार छात्रा सुदीक्षा भाटी की मौत का सच आया सामने

बुलंदशहर। पुलिस की कड़ी मेहनत के बाद होनहार छात्रा सुदीक्षा भाटी की मौत का सच सामने आ गया। पुलिस के अनुसार बाइक सवारों की आरे से कोई छेड़छाड़ करने का मामले सामने नहीं आया। सड़क पर अचानक ऑटो आ जाने से पर बुलेट बाइक सवार ने अचानक ब्रेक मार थे। तभी पीछे से सुदीक्षा की स्कूटी टकरा गई और सड़क पर गिरने से सुदीक्षा की मौत हो गयी।

पुलिस ने घटना की सच्चाई जानने के लिये सिकंदराबाद से लेकर औरंगाबाद तक रास्ते में लगे कैमरों की फुटेज को खंगाला और 10719 बुलेट मोटरसाइकिलों के बारे में जानकारी जुटाई और एक हजार से अधिक लोगों से पूछताछ की गई।

दरअसल, प्रशासन ने 10 अगस्त को सुदीक्षा भाटी की मौत की असलियत का पता लगाने के लिए एक एसआईटी का गठन किया गया था। एसआईटी ने अपनी जांच में आरटीओ कार्यालय से 10,719 बुलेट मोटरसाइकिलों के पंजीकरण की जानकारी जुटायी। एसआईटी ने घटनास्थल के आसपास कोतवाली देहात, औरंगाबाद, खानपुर, जहांगीराबाद, नरसेना, स्याना, अगौता के रहने वाले लोगों के नाम पंजीकृत बुलेट मोटरसाइकिलों की सीडीआर से लोकेशन का पता किया, किंतु हादसे के वक्त किसी का भी लोकेशन घटनास्थल या उक्त मार्ग पर नहीं मिला।

एसआईटी ने सिकंदराबाद टोल प्लाजा से लेकर औरंगाबाद में घटनास्थल तक लगे सीसीटीवी कैमरों के फुटेज खंगाले। हर कैमरे में बुलेट मोटरसाइकिल आगे तो उससे पीछे सुदीक्षा की स्कूटी दिखाई दी। एसएसपी के अनुसार किसी भी कैमरे की फुटेज में सुदीक्षा वाली बाइक आगे नहीं निकली। ऐसे में आगे चल रही बुलेट सवारों के द्वारा छेड़छाड़ करना संभव नहीं है। फुटेज की जांच में कहीं भी स्टंट दिखाए जाने की भी पुष्टि नहीं हुई है।

एसएसपी ने बताया कि पकड़ा गया युवक दीपक सोलंकी एक कांट्रेक्टर के यहां काम करता है। 10 अगस्त को दीपक चौधरी के साथ उसका परिचित राजमिस्त्री राजू के साथ काली बुलेट से जा रहा था। औरंगाबाद चरौरा मुस्तफाबाद के पास उसकी बुलेट के सामने अचानक ऑटो और भैंसा बुग्गी आ गई। इस पर उसने अचानक ब्रेक दिया। तभी पीछे से आ रही सुदीक्षा भाटी की स्कूटी उसकी लेट से टकरा गई। इस दौरान छात्रा सुदीक्षा सड़क गिर गयी और सर में गंभीर चोट लगने से उसकी मौत हो गई।

Spread the love