राष्ट्रीय

श्मशान हादसे में ईओ व जेई सहित तीन गिरफ्तार, अब तक 25 की मौत

वैभव ठाकुर की रिपोर्ट

गाजियाबाद । मुरादनगर के श्मशान घाट गलियारे का लेंटर गिरने से हुए हादसे में सोमवार को पुलिस ने मुरादनगर नगर पालिका परिषद की अधिशासी अधिकारी निहारिका सिंह, जूनियर इंजीनियर सीपी सिंह व सुपरवाइजर आशीष को गिरफ्तार कर लिया है। गलियारे का निर्माण करने वाला ठेकेदार अजय त्यागी फरार है। मंडलायुक्त अनीता सी मेश्राम के निर्देश पर गैर इरादतन हत्या, भ्रष्टाचार लापरवाही सहित अन्य धाराओं में मामला दर्ज क़िया गया है। इस हादसे में अब तक 25 लोगों की मौत हो चुकी है।


एसपी ग्रामीण इराज राजा ने बताया कि निहारिका सिंह, सीपी सिंह और आशीष को गिरफ्तार कर लिया गया है। ठेकेदार अजय त्यागी की तलाश की जा रही है। इस मामले में रविवार की देर रात उखरालसी निवासी दीपक ने मुरादनगर थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई थी।  रिपोर्ट में कहा था कि उनके पिता जय राम का निधन हो गया था जिसके अंतिम संस्कार के लिए वे श्मशान घाट गए थे। करीब 12:00 बजे जब अंतिम संस्कार की प्रक्रिया चल रही थी तभी बारिश आ गई और लोग गलियारे में जाकर खड़े हो गए। इसी दौरान गलियारे का लेंटर भरभराकर गिर गया और उसमें लोग दब गए। इसमें 25 से ज्यादा लोगों की मौत हो गई और 15 से ज्यादा घायल हो गए।

दीपक ने रिपोर्ट में आरोप लगाया था कि यह गलियारा कुछ दिन पहले बनाया गया था, जिसमें घटिया निर्माण सामग्री का इस्तेमाल हुआ था। अधिशासी अधिकारी निहारिका सिंह जूनियर इंजीनियर सीपी सिंह, आशीष आदि अधिकारियों और कर्मचारियों की मिलीभगत के कारण उसमें घटिया निर्माण सामग्री का इस्तेमाल किया गया। जिसके कारण बड़ी संख्या में लोग मारे गए।

इस मामले में मुख्यमंत्री ने संज्ञान लिया और मृतक आश्रितों को दो-दो लाख रुपये की आर्थिक सहायता के निर्देश दिए गए हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हादसे पर दुख व्यक्त किया था।

गौरतलब है कि दो महीने पहले ही इस गलियारे का निर्माण किया गया था। 15 दिन पहले इसे आम लोगों के लिए खोला गया था। इतना ही नहीं अभी इसका लोकार्पण भी नहीं हुआ था। घटिया निर्माण की वजह से हुए इस हादसे ने अधिकारियों और ठेकेदारों की मिलीभगत की पोल खोल दी है।

Spread the love